Life StyleNews

आखिर किस वजह से हुआ था भारत का बटवारा ? सच जानकर रह जाओगे हैरान..

जब किसी की मातृभूमि के टुकड़े होते हैं तो यह केवल उस भूमि का टुकड़ा नहीं होता बल्कि उसके साथ कई लोगों की भावनाएं भी चकनाचूर हो जाती हैं | इस पीड़ा का अनुभव केवल उन्होंने ही किया था जिनके समक्ष यह दुखद घटना हुई हो, जिनका परिवार इस घटना के कारण कहीं पीछे छूट गया हो | भारतवासियों की आखों में आज़ादी के सुनहरे भविष्य का सपना इस कदर झलक रहा था कि उन्होंने बंटवारे के जहरीले घूँट को भी सहर्ष पी लिया |

mahatma gandhi

मोहम्मद अली जिन्नाह और कुछ भारतीय नेताओं के मन में आज़ाद भारत का पहला प्रधानमंत्री बनने का सपना एवं सत्ता के प्रति लालसा इस कदर कूंट कूंटकर भरी हुई थी कि वे इसके लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार थे, चाहे इसके लिए भारत का बंटवारा ही क्यों न हो जाए | अब एक देश के रहते सभी की लालसाओं की तृप्ति संभव न थी इसीलिए जिन्ना ने भरे मंच पर खड़े होकर कहा कि मुसलामानों ने बहुत सबकी गुलामी कर ली लेकिन अब और नहीं सहेंगे | हमें अब एक ऐसा मुल्क चाहिए जहां कानून भी हमारा हो और हुकूमत भी हमारी ही हो |

mahatma gandi

यही से पाकिस्तान की नीव पड़ी और धर्म के आधार पर भारत का बंटवारा हुआ | मुस्लिम बाहुल्य राज्यों का विलय पाकिस्तान में होता चला गया | जिन राज्यों में हिन्दूओं की संख्या अधिक थी वे भारत में ही बने रहे | बंटवारे के दौरान भीषण रक्तपात हुआ और इसमें सबसे ज्यादा नुक्सान सिखों को उठाना पड़ा क्योंकि पंजाब का कुछ भाग पाकिस्तान में जा चुका था | आज भी इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी जीवित हैं और उन घटनाओं को स्मरण करके आज भी उनकी रूह काँप उठती है और आखें नाम हो जाती हैं |

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker